-->

gkexpres site ke madat se hum logon ko new upcoming movie,current affairs new technology,historycal facts,indian ,odisha job,festivals,artichteture,internet,gk,earning app review,type ke sare jankari dete hain

रविवार, 29 नवंबर 2020

western odisha sulia jatra 2020 date

पश्चिम ओडिशा के sulia jatra 2020 date कब है साथ ही खैरगराह sulia jatra किया है जो हर साल वेस्टर्न ओडिशा के बलांगीर जिल्ला में आयोजित किया जाता है। तो आज हम आपके जानकारी केलिए सुलिआ जात्रा त्विहार के history,location,date, और सुलिआ देवता के अनसुनी कहानिओं को आज हम आपको सुद्ध हिंदी में जानकारी देंगे जो बहुत ही रोचक होने वाला है,

sulia jatra 2020 date

हर साल बलांगीर जिल्ले के खैरगराह गाओं में पिछले 150 साल से सुलिआ जात्रा त्विहार को धूम धाम से मनाया जाता है ! सुलिआ जात्रा में देवताओं का पूजा किया जाता है और यह त्विहार हर साल पौस महीना के अमबस्या तिथि ख़तम होते ही जब पहेली मंगलबार आता है तब यह पूजा किया जाता है ! हर साल की तरह 2020 में भी सुलिआ जात्रा को आयोजित किया जाएगा और इसी साल 19,जानुयारी,2021 को सुलिआ जात्रा किया जायेगा ! 

 

  • सुलिआ जात्रा 2020 date - 19 जानुयारी 2021 
  • सुलिआ जात्रा 2019 date - 31 दिसम्बर
  • सुलिआ जात्रा 2018 date - 26 दिसम्बर 
  • सुलिआ जात्रा 2017 date - 2 जानुयारी
  • सुलिआ जात्रा 2016 date - 30 दिसम्बर
  • सुलिअ जात्रा 2015 date - 8 जानुयारी
 
sulia-jatra-2020-date


सुलिआ जात्रा 2020 डेट

sulia jatra history

सुलिआ जात्रा एक त्विहार है जो सदिओं से अदीबासि लोगों ने मनाते आरहे है ! सुलिआ एक देवता है जो लोगों का मनकामनाएं को पूरा करता है,सुलिअ देवता केलिए भक्तों ने बकरी,मुर्गा,और पोढ़ को बलि देते है यह पूजा का रिवाज होता है जिसे लोग देखने केलिए दूर दूर आते है ! सुलिअ जात्रा को खैरगराह में पिछले 150 सालों से मनाते आरहे है यह पूजा पहले एक पहाड़ में किया जाता था जिसे सुलिअ पहाड़ कहाजाता है,


  कई साल पहले यह जात्रा के पूझारी ने पूजा ख़तम करने के बाद  अपने कलस भूल आता है और जब वो कलस लेने केलिए जाता है तब वहां सभी देवी देवताएँ होते है यह द्रिश्य पूझारी ने नहीं देखना चाहिए था पर देखलिया इसी बात से देवताओं ने गुस्सा होक वही कलस को फेंक देते है और कहते है की कलस जहाँ गिरा है आज से तू वहां पूजा करेगा यह बात सुनके पूझारी ने चला आता है और हर साल पूजा पहाड़ में नहीं बल्कि उस जगह में पूजा किया जाता है जहाँ कलस गिरा था ! जब देवतायें ने कलस फेंके थे वही कलस आके खैरगराह नमक एक गाओं के खेती में गिरथा तबसे लेके आजदीन तक खैरगराह में सुलिअ जात्रा को धूम धाम से मनाया जाता है।  

 

sulia jatra kaise visit karen

भुबनेश्वर से 350 km दूर बलांगीर जिल्ला है,बलांगीर से खैरगराह आने केलिए आपको महिमुंडा अर्जुनपुर रास्ता को चुनना पड़ेगा जो सिर्फ 24 km दुरी है ! बलांगीर से खैरगराह आने वक़्त आपको एक बड़ा सा घाटी यानि पहाड़ को पार करना पड़ेगा जो अच्छे सड़क है आपको कोई परिसानी नहीं होगा ! घाटी पारकरने के बाद घाटी के निचे एक chhowk होगा जहाँ से लेफ्ट साइड मोड़के सीधा आप खैरगराह गाओं के और जायेंगे और उस गाओं पार करते ही सुलिआ जात्रा का दरसन आपको होजायेगा 

 

सुलिआ जात्रा 2020

इसी साल सुलिअ जात्रा तो होगा ही पर कोरोना के चलते और सर्कार के आइन के अनुसार लोगों की भीड़ थोड़ा कम होनेवाला है पर सुलिआ जात्रा के बिधि और नियम में कोई बदलाब नहीं होगा ! हम आपको यह बतादें की sulia jatra 2020 date जो है वो 19,जानुयारी 2021 को है क्यों की 2020 में कुछी दिन बढ़ जानेके कारन यह तिथि का बदलाब आया है ! sulia jatra date ऐसे ही नया नया जानकारी पाने केलिए हमारे साथ जोड़े रही ये और इसी post को लेके कुछ सुझाब याफिर सबाल हो तो निचे हमे कमेंट कीजिये !

1 टिप्पणी:

how can i helf you