-->

gkexpres site ke madat se hum logon ko new upcoming movie,current affairs new technology,historycal facts,indian ,odisha job,festivals,artichteture,internet,gk,earning app review,type ke sare jankari dete hain

गुरुवार, 13 जनवरी 2022

pongal festival kiya hai ise kaise celebrate karte hai or kis state me maya jata hai cheliye iska complete history ko in hinid me jan lete hai

किया आप जानते है की pongal festival किया है ? इसे कोनसा state में मनाया जाता है यह फेस्टिवल का history किया है और इसी त्विहार को कैसे मनाया जाता है इस बारेमे नहीं पता तो चलिए जान लेते in hindi में इन्ही सरे चीजों को।यह त्विहार एक पारम्परिक है इसे पढोगे तो आपको काफी कुछ सिखने को मिलने वाला है। 

pongal-festival-in-hindi

pongal festival in hindi

आप सभी लोगों को स्वागत है pongal festival in hindi में जो 2022 में आप केलिए ढेर सरे खुशियां लाये। बतादूँ की पोंगल को तमिलनाडु स्टेट में बड़े ही धूमधाम से सेलिब्रेट किया जाता है। सूत्रों की अनुसार यह फेस्टिवल 200 साल पुराना है जो आज भी पुराने जैसी पारम्पपरिक तर तरीके से तमिलनाडु के सरे लोग मनाते है। 

 

असल में pongal festival को 4 दिन तक मनाया जाता है और pongal 4 day name भी अलग अलग नामसे भी भिभाजित किया गया है जैसे भोगी पोंगल,थाई पोंगल,मट्टू पोंगल और कानुम पोंगल। अब जानलेते है इन्ही सरे पोंगल का किया मतलब होता है और इसे कैसे मनाया जाता है सो निचे पढ़ लीजिये। 

 

bhogi pongal- जब भी यह फेस्टिवल सुरुवात होता है उसी दिन को भोगी पोंगल के नाम पर जाना जाता है,यह दिन घर के सरे बेकार चीजों को गाओं के एक जगह में लाके जलाया जाता है और फटाका फोड़ के डांस किया जाता है। इस दिन का मकसद यह है की हमेसा घरों और हमारे परिबेश को परिष्कार और परिछन रखना होता है। 

 

thai pongal- बतादूँ की पोंगल का दूसरी दिन को थाई पोंगल कहा जाता है,यह दिन सरे लोग नए नए कपडे पेहेनते है और अपने अपने घर में पूजा अर्चना करते है। यह दिन तमिलनाडु के हर घर में नया धान के चावल से बानी पाउडर को रंग बिरंग के साथ घर के आंगन में फूलों और आईतो अंकित किया जाता है जिसे तमिल में kolam कहते है। 

 

Mattu pongal- हमेसा ही पोंगल के तीसरे दिन को ही मट्टू पोंगल मनाया जाता है। यह दिन घर के सरे पालतू जानवर को अच्छे से नेहेला जाता है और उनका पूजा किया जाता है खासकर के बैल और गाई के। उनका मन्ना है की उनकी वजहसे खाना पीना मिलता है और इंसान सुख में अपने संसार में जीबन जापान कर पाता है और यह pongal festival के खास परंपरा है। 

 

kaanum pongal-सबसे आखरी दिन को कानुम पोंगल मनाया जाता है,यह दिन बैल को पूजा करके उसके साथ क्रीड़ा किया जाता है यानी हर गाओं में जितने भी सरे जवान लोग होते है वह सरे लोगों को एक जगह में रखा जाता है और एक गुस्सैल बैल के गले में कुछ प्राइस रखके अंदर दाखिल किया जाता है जो बैल को हराएगा वो पैसा उनका हो जायेगा। 

pongal festival history

अगर हम pongal festival history को खंगाले तो यह तक़रीबन 200 साल से भी जयादा पुराना फेस्टिवल है जो तमिलनाडु,केरल, बंगलुरु और आँध्रप्रदेश में मनाया जाताथा पर आज के डेट में तमिलनाडु को ही pongal केलिए जाना जाता है। पोंगल का इतिहास बहुत ही रोमांचक है जिसे हम दूसरे किसी पोस्ट में बात करेंगे इसीलिए आप हमारे साथ जुड़े रहिये। 

pongal-kiyun-manaya-jata-hai

pongal kiyun manaya jata hai

आपके मन में भी यह सबाल आता होगा की pongal kiyun manaya jata hai इसका कई सरे जबाब है,बतादूँ की दुनिआं के सरे लोग जल और खाना केलिए जीबित रहे पते है और वही खाना किसान अपने खेती से फसल उगाके करता है इसीलिए हर साल के पहेली फसल को को लाके पूजा किया जाता है जैसे ओडिशा के nuakhai festival में होता है। 

 

असल में यह त्विहार के मकसद सुख समृद्धि और सन्ति केलिए ही मनाया जाता है इसीलिए किसान के पहला धान को लाके पूजा किया जाता है ताकि दुनियां के सरे लोगों को अच्छेसे खाना मिल सके और कोईभी भूखा न रहे।सिर्फ इतना ही नहीं यह फेस्टिवल अप्नोसे से मिलनेका दिन भी कहाजाता है जो जहाँ कहीं भी होता है वह लोग यह लौट के चेले आते है। 

 

pongal festival celebrated

हर साल के तरह 2022 में भी अच्छी तरह से pongal festival celebrate किया जरा है,त्विहार के दिन सरे लोगों के मुँह में जरूर एक मुस्कान होता है कियूं की यह एक सालों का त्विहार है,यह फेस्टवल हर साल जानुयारी महीने के 14 तारीख को सुरु होता है और 17 तारीख को ख़तम होता है इसी बिच ढेर सरे मजा मस्ती देखनेको मिलता है तमिलनाडु में। 

 

आप मन ही मन एक अंदाजा लगाइये की pongal festival celebrated करने केलिए दूर दूर से भी लोग अपने घर चेले आते है,मेने 4 साल तक तमिलनाडु में रहा हूँ और मुझे सबसे अच्छा पोंगल के दिन लगता था कियूं की स्कूल कलेज तो किया वहां 4 दिन तक दूकान भी नहीं खोलता है साथ ही सभी कंपनी को भी ४ दिन केलिए ताला मारा जाता है।

 

लोग अक्सर गूगल करते है की pongal festival which state इसका सही उत्तर है तमिलनाडु,सो उम्मीद करताहूँ की यह फेस्टिवल के बारेमे in hidi में पढ़के आपको बहुत कुछ सिखने को मिला होगा,अगर आपको pongal festival के बारेमे कुछ सबाल या सुझाब हो तो निचे जरूर कमेंट कीजियेगा धनयबाद।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

how can i helf you